महंगाई की एक और मार, सीमेंट अब 350 रुपए पार

0
61

रायपुर। महंगाई की मार से परेशान आम आदमी पर अब एक और महंगाई की बड़ी मार पड़ी है। सीमेंट (cement) की कीमत 350 रुपए पार हाे गई है।

सीमेंट कंपनियों ने हड़ताल को वजह बता कर एक बार नहीं बल्कि दाे बार इसकी कीमत में 35 रुपए का इजाफा किया है। इसी के साथ बिलिंग में दी जा रही मानसून स्कीम काे भी समाप्त कर दिया है। ऐसा हाेने से अब सीमेंट हड़ताल से पहले की कीमत में 70 रुपए का इजाफा हाे गया है। सरकारी काम में आने वाले नान ट्रेड की कीमत में भी 30 रुपए का इजाफा किया गया है।

भैयाजी ये भी देखे : हुक्का बार: राजधानी में कार्रवाई दूसरे दिन भी जारी, रसूखदारों के रसूख अफसरों के आगे अब बौना

हड़ताल के बाद इजाफा

सीमेंट (cement)  प्लांटों में 37 दिनाें चली हड़ताल तो एक सप्ताह पहले ही समाप्त हो गई। मालभाड़े में 13 फीसदी का इजाफा करने पर सहमति बनी। इसके बाद से ही सीमेंट की कीमत में इजाफा किए जाने की संभावना थी। यह संभावना सच भी साबित हाे गई है। सीमेंट कंपनियों ने पहले हड़ताल के बीच में ही कीमत में 20 रुपए का इजाफा कर दिया था। अब एक बार फिर से 15 रुपए का इजाफा किया गया है।

70 रुपए का भार

हड़ताल से पहले की बात करें तो सीमेंट (cement)  प्लांटों से 280 रुपए की बिलिंग पर माल आ रहा था। इसमें स्कीम होने के कारण यह थोक में 250 रुपए में बिक रहा था। चिल्हर कारोबारी इसको 280 रुपए तक बेच रहे थे। इसके बाद हड़ताल प्रारंभ हुई तो सीमेंट कंपनियों ने 20 रुपए का इजाफा करके तीन सौ में बिलिंग की। इसमें भी स्कीम होने पर यह चिल्हर कारोबारियों तक 280 रुपए में पहुंच रहा था तो तीन सौ में बेचा जा रहा था।

इसके बाद हड़ताल के कारण सीमेंट ही बाजार से गायब हो गया। दूसरे राज्यों और प्रदेश के दूसरे शहरों से सीमेंट आने के कारण यह साढ़े तीन सौ रुपए में बिका। अब जबकि हड़ताल समाप्त हो गई है तो कंपनियों ने शनिवार काे जाे माल बाजार में भेजा है, उसकी बिलिंग 315 रुपए में की है। ऐसे में थोक कारोबारियों से चिल्हर कारोबारियों तक यह सीमेंट 325 रुपए में पहुंच रहा है। अब चिल्हर कारोबारी इसमें अपना मुनाफा और भाड़ा जोड़कर ग्राहकों को 350 रुपए में बेच रहे हैं।